पलामू (PALAMU) : राज्य में गुंडे-बदमाशों का साहस काफी बढ़ गया है. आम इंसान तो छोड़िए ये लोग पुलिस-प्रशासन के कर्मियों को भी नहीं बक्श रहे हैं . ऐसे असामाजिक तत्व आये-दिन शहर में किसी न किसी आपराधिक घटना को धड़ल्ले से अंजाम दे रहे हैं. फिर चाहे वो दिन की रोशनी में हो या फिर रात के अंधेरे में. इन्हें न तो किसी का डर है और न ही किसी कार्रवाई का भय. ऐसा ही एक मामला पलामू से सामने आया. बीते दिन शाम बेलवाटिका इलाके में चाकू की नोख पर एक महिला के साथ लूटपाट की घटना को अंजाम दिया. महिला उपायुक्त कार्यालय के विधि शाखा में कार्यरत है. बता दें कि घटना के समय पलामू पुलिस हाई अलर्ट पर थी. कारण, राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पलामू दौरे पर पहुंचने वाले थे. इसी बीच हुई यह घटना पलामू पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था पर बड़े सवाल खड़े करती है. 

पर्स में था नगद, मंगलसूत्र और मोबाइल 

देर शाम महिला उपायुक्त कार्यालय से पैदल ही अपने घर जा रही थी. इसी दौरान तीन युवकों ने उसका पीछा करना शुरू कर दिया. महिला ने जब देखा की कुछ लोग उसका पीछा कर रहे है तो उसने अपनी तेज़ी बढ़ाते हुए घर की तरफ भागी. लेकिन,घर पहुंचने से पहले ही बदमाशों ने उसे घेर लिया और चाकू दिखा कर महिला का पर्स लूट कर फरार हो गए. जानकारी के अनुसार महिला के पर्स में मोबाइल के अलावा पैन कार्ड, सोने के टॉप और मंगलसूत्र, ऑफिस और घर की चाभी सहित 3000 नकद रूपए थे. महिला पलामू के बेलवाटिका गुरुद्वारा क्षेत्र की रहने वाली है. इनके पति अरविंद कुमार सिन्हा डालटनगंज रेलवे स्टेशन के यातायात निरीक्षक हैं.

सीसीटीवी में कैद हुई अपराधी की तस्वीर   

महिला ने शुक्रवार सुबह थाने में मामला दर्ज करवाया है. प्राथमिकता के आधार पर पुलिस जांच में जुट गयी है. जानकारी के अनुसार पुलिस ने घटनास्थल के आसपास के क्षेत्र का सीसीटीवी फुटेज खंगाला है, जिसमें तीनों युवक नज़र आ रहे हैं. सवाल है कि रात में गश्ती कर रही टीम घटना के समय कहां थी. लूटपाट के बाद महिला के साथ कुछ अनहोनी ही हो सकती थी. 

मुख्यमंत्री दौरे के कारण चॉक चौबंद थी पुलिस व्यवस्था, फिर भी हो गयी घटना  

राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कल पलामू दौरे पर आने वाले थे. इसको लेकर जिला में हाई अलर्ट था. शहरी क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई थी. तमाम पुलिसकर्मी चौक चौरोहों पर तैनात थे. लेकिन इसी बीच महिला के साथ लूटपाट की घटना को अंजाम दिया जा रहा था. ऐसे में सीएम के आगमन से आधा घंटे पहले हुई इस घटना से पुलिस-प्रशासन पर कई बड़े सवाल खड़े हो रहे हैं.