जमशेदपुर (JAMSHEDPUR) - घोड़ाबंधा के खापचाडुंगरी और राजा बस्ती के बीपीएल उपभोक्ताओं को भारी-भरकम बिजली बिल थमाने और कइयों पर दर्ज़ मुकदमे के विरोध में भाजपा नेता अंकित आनंद द्वारा घोषित "भिक्षाटन" आंदोलन अब बिजली विभाग के कार्यपालक अभियंता के आश्वासन के बाद टल गया है. बता दें कि सोमवार को उपायुक्त सूरज कुमार और बिजली महाप्रबंधक प्रतोष कुमार के निर्देश के बाद विभाग हरकत में आया और विभागीय कार्यपालक अभियंता सुब्रतो बैनर्जी और एसडीओ ने मामले में बैठक का आयोजन कर कई बिंदुओं पर समाधान की दिशा में सहमति बनाई.

त्रिपक्षीय वार्ता का आयोजन

करनडीह विद्युत डिवीजन स्थित कार्यपालक अभियंता के कार्यालय में त्रिपक्षीय वार्ता का आयोजन किया गया. बैठक में विभागीय प्रतिनिधि के तौर पर कार्यपालक अभियंता और एसडीओ मौजूद रहें. वहीं इस मामले में 'भिक्षाटन आंदोलन' का ऐलान करने वाले भाजपा के पूर्व महानगर प्रवक्ता अंकित आनंद के अलावे पंकज मिश्रा और खापचाडुंगरी के ग्रामीण बीपीएल उपभोक्ता भी मौजूद रहे. गरीब बीपीएल उपभोक्ता मायूस चेहरे के साथ ऑटो रिक्शा से बिजली ऑफ़िस पहुंचे थे, लेकिन बैठक में उनके अधिकार की बातों को अंकित आनंद ने प्रमुखता से रखा. सकारात्मक समाधान मिलने पर बैठक से निकलने के बाद ग्रामीणों के चेहरे पर सुकून और ख़ुशी देखी गई.

इन बिंदुओं पर बनी सहमति -

1) अब नियमित तौर पर मीटर रीडिंग और मासिक बिल निर्गत होंगे.

2) शनिवार को खापचाडुंगरी के आंगनबाड़ी केंद्र परिसर में बिजली विभाग के एसडीओ एवं अन्य पदाधिकारी की मौजूदगी में शिविर लगेगी.

3) वैसे उपभोक्ता जिनपर मुकदमा दर्ज़ है या भारी भरकम बिल थमाया गया है, उनके लिए किश्तों में बकाया भुगतान करने की राहत.

4) सक्षम उपभोक्ताओं के लिए सेटलमेंट स्कीम के मार्फ़त एकमुश्त समाधान की सुविधा.

5) ग्रामीणों पर वित्तीय बोझ न पड़े, इस निमित्त सभी ख़राब बिजली मीटर बदलने पर सहमति.

6) सेटलमेंट और लोक अदालत के माध्यम से दर्ज़ मुकदमे का सहमतिपूर्वक निष्पादन और समाधान.

7) प्रथम किश्त भुगतान के बाद कटे हुए बिजली कनेक्शन जोड़े जायेंगे.

इन बिंदुओं पर सहमति पूर्वक मामले के समाधान के बाद भाजपा नेता अंकित आनंद ने मीडिया के माध्यम से "भिक्षाटन आंदोलन" स्थगित करने का ऐलान किया.

खबर का असर

बता दें कि घोड़ाबांधा के खापचाडुंगरी और राजा बस्ती के ग्रामीणों को बीपीएल श्रेणी के कनेक्शन दिए गए थे जिसकी सालों तक मीटर रीडिंग नहीं हुई और अचानक गरीब मज़दूरों को दस दस हज़ार से भी ज्यादा के बिल थमा दिए गए थे. जिसके बाद अंकित आनंद ने उनकी आवाज़ उठाई. द न्यूज़ पोस्ट ने खबर को प्रमुखता से छापा और उपायुक्त ने मामले का संज्ञान लिया. समस्या न सुलझने पर अंकित आनंद ने सोमवार से आंदोलन का ऐलान किया था. इस मामले में पिछले दिनों अंकित ने पत्र लिखकर डीसी और विभाग के महाप्रबंधक से उचित हस्तक्षेप का आग्रह किया था. उपायुक्त सूरज कुमार और बिजली जीएम प्रतोष कुमार के निर्देश के बाद सोमवार को जमशेदपुर डिवीजन के कार्यपालक अभियंता ने हस्तक्षेप कर के बैठक के माध्यम से कई बिंदुओं पर सहमति बनाई जिससे आंदोलन को टाला जा सका. बीजेपी नेता अंकित आनंद ने इस बैठक को सम्मानजनक और लोकउपयोगी बताते हुए कहा कि इससे ग्रामीण बीपीएल उपभोक्ताओं को लाभ मिलेगा. वहीं इस मामले में उचित हस्तक्षेप करने के लिए अंकित आनंद ने डीसी सूरज कुमार, बिजली जीएम प्रतोष कुमार सहित जमशेदपुर डिवीज़न के कार्यपालक अभियंता सुब्रतो बैनर्जी और एसडीओ के प्रति आभार जताया है. अंकित ने विश्वास जताया कि बैठक में जिन बिंदुओं पर सहमति बनी है, विभाग उनके अनुपालन में प्रतिबद्धता से पहल करेगी.

रिपोर्ट : अन्नी अमृता, जमशेदपुर